उत्तर प्रदेश में अपराध और अपराधी बढ़े : निर्वाचन आयुक्त | बरेली

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

उत्तर प्रदेश में अपराध और अपराधी बढ़े : निर्वाचन आयुक्त | बरेली


Saturday, May 20 2017
Unite For Humanity, Admin ALL INDIA

उत्तर प्रदेश में अपराध और अपराधी बढ़े : निर्वाचन आयुक्त

राज्य निर्वाचन आयुक्त एसके अग्रवाल ने कहा है कि उप्र में अपराध और अपराधी दोनों ही बढ़े हैं। उन्होंने अफसरों से सवाल किया कि फिर हिस्ट्रीशीट कम क्यों हो गई? गोरखपुर, लखनऊ, बनारस और अब बरेली जोन की समीक्षा में साफ हुआ कि अप्रैल माह में कुछ जिलों ने अच्छा काम नहीं किया है। जब तक जघन्य अपराधी, हिस्ट्रीशीटर, इनामी और फरार बदमाश नहीं पकड़े जाएंगे, इनके खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी, सूबे में कानून व्यवस्था सुधरने वाली नहीं। 

कमिश्नरी सभागार में बरेली और मुरादाबाद मंडल में स्थानीय निकाय चुनाव की तैयारियों की समीक्षा बैठक में उन्होंने यह बात कही। अफसरों को निर्देश दिए कि जिन जघन्य अपराधों में अभियुक्त नामजद हैं, उनमें तुरंत कार्रवाई हो। तीन या छह माह तक मामला लंबित रहने से पब्लिक में गलत संदेश जा रहा है। गैंगस्टर, गुंडा एक्ट और जिला बदर करने की कार्रवाई करें। साम्प्रदायिक और जातिगत हिंसा के मामलों में त्वरित व निष्पक्ष कार्रवाई होनी चाहिए। चुनाव में देखने में आता है कि फोर्स हिंसा के दौरान हेलमेट और सुरक्षा जैकेट पहने बगैर घटनास्थल पहुंच जाती है। किसी बड़े अफसर या इंस्पेक्टर के घायल होने पर फोर्स का मनोबल टूट जाता है। इसलिए दंगा नियंत्रण की ट्रेनिंग सभी को कराई जाए। उन्होंने ब्रीफिंग के दौरान निकाय चुनाव टलने की संभावना से इन्कार करते हुए कहा कि छह या सात जून तक अधिसूचना जारी हो सकती है। पुनरीक्षण अभियान भी दस दिन के लिए बढ़ाने की जानकारी दी। बैठक में एडीजी कानून व्यवस्था, दोनों मंडलों के कमिश्नर एवं एडीजी जोन रहे।

पत्रकारों के सवाल पर उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में छेड़छाड़ की बात महज किसी के कह देने भर से सच नहीं हो जाती। भारत निर्वाचन आयोग इसे साबित करने की चुनौती भी दे चुका है लेकिन अभी तक किसी ने चुनौती स्वीकार नहीं की। छेड़छाड़ की बात अगर सही होती तो पब्लिक के बीच से भी शिकायत आती। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि मतदाता सूची में नाम जुड़वाने, कटवाने आदि के लिए आवेदन अब 29 मई तक किया जा सकेगा। अफसरों से कहा है कि बीएलओ को भेजकर 29 मई तक इसे दुरुस्त करा लें। पात्रों को मतदाता बनाया जाए। अपात्रों के नाम कटने चाहिए।