श्रेष्ठ कौन? परमात्मा को समर्पित या रोटी के लिए कर रही जद्दोजेहद | सम्पादकीय

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

श्रेष्ठ कौन? परमात्मा को समर्पित या रोटी के लिए कर रही जद्दोजेहद | सम्पादकीय


Saturday, July 18 2015
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

श्रेष्ठ कौन? परमात्मा को समर्पित या रोटी के लिए कर रही जद्दोजेहद

एक साध्वी हाथ में माइक पकड़े तो दूसरी गरीब किन्तु हल का मुठिया हाथ पकड़े-श्रेष्ठ कौन?

जेहन में यह सवाल उठना लाजमी है कि एक नारी परमात्मा को समर्पित है तो दूसरी रोटी के लिए जद्दोजेहद कर रही है,इनमे श्रेष्ठ कौन है? एक गेरुआ पहनकर ईश्वरीय भक्ति में लींन है तो दूसरी श्रम की शक्ति में तल्लीन है,इनमे श्रेष्ठ कौन?
एक घूम-घूम के कुम्भ नहा रही है तो दूसरी पसीने से तर हो रही है,श्रेष्ठ कौन? एक दुनियावी मोह-माया से विरत आवागमन से मुक्त होने को प्रयासरत है तो दूसरी दुनिया के लिए अन्न उपजाने हेतु संघर्षरत है फिर इनमे श्रेष्ठ कौन?


एक निखट्टू है,परजीवी है,दूसरी परपोषक है,श्रमजीवी है फिर श्रेष्ठ कौन?एक मांगकर खाती है तो दूसरी उपजाकर खाती है,श्रेष्ठ कौन? एक सृष्टि के विधान तोड़ माँ बनने से विरत है तो दूसरी अगली पीढ़ी को समुन्नत बनाने के लिए लड़ रही है,श्रेष्ठ कौन?
एक ऊसर है,बंजर है तो दूसरी लहलहाती माँ है,श्रेष्ठ कौन? एक सन्तों पर आरोप लगाती है कि इसने मुझे बुरी नियत से नासिक कुम्भ स्नान में छू दिया तो दूसरी हाथो में चाबुक लिए बैलो की हराई सही कर रही है,इनमे श्रेष्ठ कौन?
एक बिन मांगे जी नही सकती तो दूसरी बिन दिए रह नही सकती, फिर श्रेष्ठ कौन? श्रेष्ठ कौन-साध्वी या मजदूरन ?