पत्नी के विधायक बनते ही दयाशंकर की भाजपा में वापसी | चुनाव

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

पत्नी के विधायक बनते ही दयाशंकर की भाजपा में वापसी | चुनाव


Tuesday, March 14 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

पत्नी के विधायक बनते ही दयाशंकर की भाजपा में वापसी

FH NEWS
उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत मिलने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश उपाध्यक्ष पद से निष्कासित दयाशंकर सिंह का निष्कासन आज वापस ले लिया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या ने यह निर्णय लिया है। स्वाति सिंह की जीत के साथ ही उनके पति की  भाजपा में वापसी हो गई है। प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य ने उनका निष्कासन निरस्त कर दिया।
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने भाजपा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह का निलंबन वापस ले लिया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी हरिश्चंद्र श्रीवास्तव ने यह जानकारी दी। पिछले वर्ष मऊ में एक प्रेसवार्ता के दौरान दयाशंकर ने बसपा प्रमुख मायावती पर अभद्र टिप्पणी की थी। केशव मौर्य ने इसके बाद उन्हें पद से बर्खास्त करते हुए छह वर्ष के लिए निलंबित कर दिया था। दयाशंकर की टिप्पणी की प्रतिक्रिया स्वरूप बसपा ने प्रदर्शन कर उनकी पत्नी और बेटी के खिलाफ गालियों की बौछार कर दी। प्रतिक्रिया में दयाशंकर की पत्नी स्वाती सिंह ने मायावती को ललकारा और वह अचानक सुर्खियों में आ गयी। भाजपा ने स्वाती के संघर्ष में सहयोग किया। फिर उन्हें महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाया और सरोजनीनगर से चुनाव में मौका भी दिया। स्वाती चुनाव जीत गयीं। उनकी जीत के साथ ही दयाशंकर की वापसी का रास्ता खुल गया। केशव मौर्य ने निलंबन निरस्त कर दिया। साथ राजनीति में दयाशंकर के कैरियर पर लगा ब्रेक भी हट गया। 
आजमगढ़ में बीते वर्ष बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती के खिलाफ बेहद अभद्र टिप्पणी करने के मामले में दयाशंकर सिंह को पार्टी से बाहर कर दिया गया था।आज पार्टी ने दयाशंकर सिंह का निष्कासन वापस ले लिया है। दयाशंकर सिंह की पत्नी तथा भजपा महिला मोर्चा उत्तर प्रदेश की अध्यक्ष स्वाती सिंह ने लखनऊ के सरोजनीनगर से विधानसभा का चुनाव जीता है।
मायावती पर अभद्र टिप्पणी कर निशाने पर आए पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह की मायावती पर टिप्पणी से सड़क से संसद तक बवाल हुआ था। डैमेज कंट्रोल के लिए बीजेपी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए दयाशंकर को पहले पद से हटाया और फिर पार्टी से निष्कासित कर दिया। मायावती के खिलाफ उनकी पत्नी स्वाति सिंह ने मोर्चा खोल बीजेपी को राहत दे दी थी। इनाम में स्वाति को पहले महिला मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया और बाद में सरोजीनगर से टिकट भी दिया गया जहां से चुनकर वह सदन पहुंच गई। 
भाजपा अध्यक्ष केशव मौर्य ने इस बात की जानकारी आज ट्वीट के माध्यम से दी। अध्यक्ष केशव मौर्य ने अपने ट्वीट में लिखा “भाजपा के पूर्व नेता श्री दया शंकर सिंह आज से वर्तमान नेता है निष्कासन वापस लिया जाता है। बीजेपी प्रदेश 2019 में कमल खिलाये पुनःआदरणीय मोदी जी को PM बनाए।

 

 

नवीन समाचार व लेख

अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति के कार्यकाल की जांच हो - शैलेश सिंह शैलू

UP: हाईवे पर कार रोककर पूरे परिवार को लूटा, 4 महिलाओं से रेप की कोशिश

यूपी सरकार को डेढ़ महीने में 12.5 करोड़ किताबें देना बना चुनौती

अलीगढ़ में माहौल बिगाड़ने की तैयारी, छतों पर मिला ईंट-पत्थरों का जखीरा

भाजपा यूपी में बनाएगी 30 लाख प्रतिबद्ध कार्यकर्ता