मायावती के जमाने के बेहद ताकतवर अधि‍कारी के घर छापा, 10 करोड़ नकदी, 8 किलो सोना बरामद | गाजियाबाद

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

मायावती के जमाने के बेहद ताकतवर अधि‍कारी के घर छापा, 10 करोड़ नकदी, 8 किलो सोना बरामद | गाजियाबाद


Friday, April 21 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

मायावती के जमाने के बेहद ताकतवर अधि‍कारी के घर छापा, 10 करोड़ नकदी, 8 किलो सोना बरामद

मायावती सरकार में सबसे ताक़तवर अधिकारियों में से एक यशपाल सिंह के घर पर आयकर विभाग छापे से पूरे यूपी के बिल्डर्स और भूमाफ़ियाओं मे खलबली मच गई है. वजह साफ़ है, कुर्सी पर रहते हुए यशपाल त्यागी ने सैकड़ों ज़मीनें बिल्डर्स और दूसरे ख़रीदारों को मुंहमांगे दामों पर बेचीं, बदले में करोड़ों रुपयों की रिश्वत भी कमाई.

उनकी इस कमाई पर आयकर विभाग की नज़र शुरू से ही थी और जैसे ही यूपी मे सरकार बदलने के बाद योगी सरकार ने भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्यवाही शुरू की, यशपाल सिंह निशाने पर आ गए.

सूत्रों के मुताबिक़ गुरुवार को सुबह जब आयकर विभाग की टीम यशपाल के घर पहुंची, तो नोएडा के पॉश सेक्टर 50 के उस आलीशान घर को देखकर हैरान रह गई. जब अधिकारियों ने घर की तलाशी ली तो बरामदगी देखकर वो और भी हैरान रह गए. जानकारी के मुताबिक़ यशपाल के घर से दस करोड़ रूपये नकद और करीब 8 क़िलो सोने के ज़ेवरात मिले है.

जानकारी के मुताबिक़ तलाशी मे ज़मीन आबंटन को लेकर कई अहम दस्तावेज़ और उन लोगों की डिटेल मिली है, जिन्हें यशपाल ने पद पर रहते हुए फ़ायदा पहुंचाया. अब आयकर विभाग इन सभी लोगों की एक लिस्ट बनाकर पूछताछ करने की तैयारी कर रहा है.

कभी नोएडा में तूती बोलती थी
कभी नोएडा अथॉरिटी मे स्पेशल आफिसर आन ड्यूटी के पद पर तैनात यशपाल त्यागी की नोएडा तक तूती बोलती थी, लेकिन मायावती सरकार के जाने के बाद यशपाल सिंह ने वीआरएस ले ली और नोएडा के सेक्टर पचास मे आकर रहने लगे, लेकिन सालों बाद भी आयकर विभाग उनका कच्चा चिट्ठा तैयार करने मे जुड़ा था. इस आलीशान घर पर छापे के बाद जो सबूत हाथ लगे है वह यशपाल त्यागी समेत कई और लोगों को भारी मुश्किल मे डाल सकते है.

 

नवीन समाचार व लेख

सरकारी बैंकों के कुल NPA का 27 फीसद हिस्सा SBI को वसूलना है, अगला नंबर PNB का

ट्रेन हादसे के दूसरे दिन ही प्रशासन ने राहत से खींच लिए हाथ

राजीव गांधी को याद कर कांग्रेस ने शुरू की राहत की राजनीति

येदुरप्पा पर मुकदमा एक साजिश, सिद्धरमैया इस्तीफा दें

अल्पसंख्यकों के लिए सरकार खोलेगी नवोदय की तर्ज पर स्कूल