यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

बर्ड फ्लू को लेकर बरतें सावधानी | स्वास्थ सुझाव


Monday, September 11 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

बर्ड फ्लू को लेकर बरतें सावधानी

मेरठ : बर्ड फ्लू को लेकर सोमवार को विकास भवन सभागार में कई विभागों के अधिकारियों ने मंथन किया। हालांकि, रोग फैलने जैसे कोई हालात नहीं हैं लेकिन एहतियातन पूर्व इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं।

सीडीओ आर्यका अखौरी ने कहा कि बर्ड फ्लू (एच5एन1) का खतरनाक वायरस इंसान और पक्षियों को प्रभावित करता है। यह रोग मौत का कारण भी बन सकता है। रोग से बचाव के लिए संबंधित विभागों को समन्वय बनाकर योजना तैयार करने, आमजन को बीमारी के प्रति जागरूक कर बचाव केउपाय भी बताने के निर्देश दिए।

पशुपालन विभाग पशुओं का टीकाकरण समय से कराए। सेमिनार में सीवीओ डा. एके सिंह, सीएमओ डा. राजकुमार, पीडी भानु प्रताप सिंह, डा. वीपी सिंह, डा. प्रमोद कुमार आदि अधिकारी उपस्थित रहें।

ये हैं लक्षण

अपर निदेशक पशुपालन डा. एसके श्रीवास्तव ने बताया कि बुखार, हमेशा बलगम रहना, नाक बहना, सिरदर्द, गले में सूजन, मांसपेशियों में दर्द, दस्त होना, हर वक्त उल्टी की शिकायत महसूस होना, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना, सांस लेने में समस्या, सास न आने, निमोनिया आदि बीमारी के प्रमुख लक्षण हैं।

ऐसे फैलता है रोग

पशु चिकित्सकों ने बताया कि इंसानों में रोग का वायरस संक्रमित मुर्गो और अन्य पक्षियों के संपर्क में आने से फैलता है। मानव शरीर में वायरस आंख, मुंह और नाक केजरिए फैलता है। रोग से प्रभावित पक्षी की सफाई करने और काटने से भी संक्रमण फैलता है।

सतर्कता से होगा बचाव

-बीमारी से मरे पक्षियों से दूर रहें। पक्षी की मौत की सूचना पशुपालन विभाग को दें।

-बर्डफ्लू वाले क्षेत्र में मांसाहार का सेवन न करें। मीट खरीदते समय सफाई का ध्यान रखें।

-मास्क पहनकर बाहर निकलें। बीमार होने पर पूर्ण आराम करें और पौष्टिक भोजन लें। मरीज को एकांत में रखें।