कानपुर में कूड़ा कचरा एक बड़ी समस्या | कानपुर

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

कानपुर में कूड़ा कचरा एक बड़ी समस्या | कानपुर


Thursday, January 07 2016
Ashok Srivastava, Reporter Kanpur

कानपुर में कूड़ा कचरा एक बड़ी समस्या

कानपुर : कानपुर में कचरा एक बड़ी समस्या बना हुआ है|जैसे जैसे विकास हो रहा है और लोगों का जीवन स्तर भी बढ रहा है सभी जगह पर  कूड़ा कचरा भी बढ़ रहा है| लेकिन कचरे से कैसे निबटा जाए यह भी एक  समस्या बनी हुई है अगर इस मामले में जनता और सरकार जागरूकता दिखाए तभी कुछ हो सकता है|

पुराने जमाने में कचरे में आम तरह का जैविक कूड़ा होता था जो जमीन में गल जाता था, लेकिन आधुनिक विकास के युग में  कचरे में रसायन का अनुपात बढ़ रहा है| वह एक ओर स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदेह है तो दूसरी ओर कचरे में फेंकी हुई बहुत सी चीजों का फिर से इस्तेमाल  भी संभव है| उनकी रिसाइक्लिंग कर संसाधनों की बर्बादी की रोक थाम की जा सकती है और पर्यावरण को भी बचाया जा सकता है| 

भारत जैसे देशों में पहले थैले के रूप में ऐसी चीजों का इस्तेमाल होता था जो नुकसानदेह नहीं थी| दही के लिए अधिकतर  मिट्टी के बर्तनों का इस्तेमाल होता था तो सामान ढोने के लिए जूट का बैग का, प्लास्टिक के इस्तमाल ने स्थिति को बदल कर रख दिया है|  साथ  साथ एक समस्या भी पैदा हो गई है क्योंकि प्लास्टिक कभी गलता नहीं| उसका रिसाइक्लिंग ही संभव है, लेकिन उसे जमा करने की कोई  भी उचित व्यवस्था नही है| अब प्लास्टिक पर रोक लगाकर समस्या से निबटने की कोशिश हो रही है| लेकिन अभी इसमे सफलता मिल नही पा रही है|

 

नवीन समाचार व लेख

राजस्थान विधानसभा के चुनाव अभी दूर,लेकिन मुख्यमंत्री पद को लेकर कांग्रेस में अभी से वकालात

इलाहाबाद में शुरू हुवास्वच्छ भारत मिशन नहीं होगा खुले में शौच

ईपीएफओ ने शुरू की नई सर्विस, UAN को आधार से करें ऑनलाइन लिंक

बैंक खाते को आधार से जोड़ने का फैसला सरकार का रिजर्व बैंक की कोई भूमिका नहीं

योगी सरकार की ओर से जारी साल 2018 के लिए कलैंडर में मिली ताजमहल को जगह