Presidential election: उत्तर प्रदेश में कड़ी सुरक्षा के बीच राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान | लखनऊ

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

Presidential election: उत्तर प्रदेश में कड़ी सुरक्षा के बीच राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान | लखनऊ


Monday, July 17 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

Presidential election: उत्तर प्रदेश में कड़ी सुरक्षा के बीच राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए सोमवार को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कड़े सुरक्षा बंदोबस्त में 10 से शाम पांच बजे तक वोट डाले जाएंगे। एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और यूपीए प्रत्याशी मीरा कुमार हैं। वोटिंग की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। मतदान को लेकर रविवार को कर्मचारियों को प्रशिक्षण और सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद की गई। निर्वाचन प्रक्रिया की वीडियोग्राफी का भी इंतजाम है। मतदान के लिए आज रहर्सल भी कियाजा चुका है। मतदान समाप्त होने के बाद मतपेटियों को सील कर सहायक रिटर्निंग अफसर हवाई जहाज से दिल्ली ले जाएंगे। मतदान के लिए बैलेट पेपर शनिवार को ही लखनऊ पहुंच गए थे जिन्हें विधान भवन में बनाए गए अस्थायी स्ट्रांग रूम में रखा गया है। मतदान में नामित सदस्यों के अलावा विधानसभा के बाकी सदस्य तथा लोकसभा व राज्यसभा के सदस्य हिस्सा लेंगे। 

मतदान में मतदाताओं को वरीयता क्रम में अपनी पंसद जाहिर करनी होगी। अपनी पसंद के प्रत्याशी के नाम के सामने मतपत्र पर वरीयता क्रम अंकों में 1 और 2 अंकित करना होगा। इसके लिए निर्वाचन आयोग द्वारा उपलब्ध कराए विशेष पेन का इस्तेमाल करना अनिवार्य है। प्रदेश के विधायक की वोट का मूल्यांकन 208 और लोकसभा व राज्यसभा सदस्यों के मत का मूल्य 708 है।

मतदाताओं को मतदेय स्थल में प्रवेश करने से पहले सहायक रिटर्निंग अफसर के पास अपना पेन व मोबाइल फोन आदि जमा कर देना होगा। मतदान के लिए किसी अन्य पेन का प्रयोग करने पर वोट अवैध घोषित हो जाएगा। मतदान पूरी तरह से गोपनीय होगा और मतदाता किसी पोलिंग एजेंट को भी वोट नहीं दिखा सकेंगे। मतदान की निगरानी के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने अरुण कुमार संयुक्त सचिव भारत सरकार को प्रेक्षक व विजय कुमार पांडेय निदेशक विधि निर्वाचन आयोग को विशेष प्रेक्षक नियुक्त किया है। 

मतदान प्रक्रिया की जानकारी देने को पोस्टर मतदेय स्थल के बाहर चस्पा किए गए हैं। मतदेय स्थल के भीतर दोनों उम्मीदवारों का एक-एक अधिकृत प्रतिनिधि ही उपस्थित रहेगा। यूपीए उम्मीदवार मीरा कुमार के प्रतिनिधि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद होंगे जो शनिवार को ही लखनऊ पहुंच गए।

मुख्यमंत्री आवास में आज राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोट रिहर्सल किया गया। इस रिहर्सल में करीब दर्जन भर विधायकों ने वोट डालने में गलती कर दी। साढ़े आठ बजे तक वोट रिहर्सल का कार्यक्रम चला। विधायकों को राष्ट्रपति के नाम आगे अंक में 1 लिखना था लेकिन, कई लोग निर्धारित भाग के ऊपर-नीचे लिख दिए। भारतीय जनता पार्टी, अपना दल सोनेलाल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के विधायकों के अलावा निर्दल अमन मणि त्रिपाठी भी इसमें शामिल हुए। कई विधायक अनुपस्थित थे। कुछ ने अस्वस्थ होने की वजह से पहले ही सूचित कर दिया था पर, 300 से ज्यादा विधायक इस रिहर्सल में शामिल हुए। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा और भाजपा के संगठन महामंत्री सुनील बंसल की उपस्थित में शुरू हुए रिहर्सल में संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना, परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, मुख्य सचेतक वीरेन्द्र सिंह सिरोही और राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने पर्यवेक्षक की भूमिका निभाई। विधायकों को वोट डालने के लिए चार काउंटर बनाए गए थे। मतपेटियां भी अलग-अलग काउंटर पर रखी गई थीं। सोमवार को राष्ट्रपति के चुनाव के लिए मतदान होना हैं। रामनाथ कोविंद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार हैं। इस दौरान बताया गया कि कैसे वोट डालना है। सोमवार के लिए दस पर्यवेक्षक तय किए गए हैं। इन्हें नौ बजे तक पहुंचना है जबकि नौ बजकर 45 मिनट पर सभी विधायकों को विधान भवन में भाजपा कक्ष में पहुंच जाने के निर्देश हैं। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधायकों से कहा कि आप आत्मविश्वास के साथ वोट करिए। स्नातक चुनाव में पढ़े लिखे लोगों के भी वोट अवैध हो जाते हैं। तीन से चार प्रतिशत गलतियां सामने आती हैं। ऐसी स्थिति न आए। उन्होंने कहा कि यह कितने गर्व की बात है कि आपके वोट से राष्ट्रपति का चुनाव होगा और यह भी खास संयोग है कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों उत्तर प्रदेश के होंगे। 

योगी ने विधायकों से दिल से बात की। सुरक्षा को लेकर उन्हें नसीहत दी। कहा, जिस तरह चुनौती आई है उसमें आप सबको सहयोग करना है। उन्होंने कहा कि यह शर्म की बात है कि विधायकों ने पान की पीक थूककर सीट के नीचे दबा दिया। उन्होंने यह भी कहा कि शासन प्रशासन के लोगों को कहा गया है कि विधायकों की अनदेखी न की जाए। जो गलती करेगा उसे दंडित किया जाएगा। योगी ने कहा कि जो लोग बीमार हैं, उन्हें विशेष सुविधा के साथ वोट डालने के लिए लाया जाएगा। इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने भी विधायकों को नसीहत दी। 

 

नवीन समाचार व लेख

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा अखिलेश यादव निकाय चुनाव को लेकर तानव में

केंद्र सरकार ने खाद्य तेल पर बढ़ाया आयात शुल्क

सरकारी उपक्रमों और वित्तीय संस्थानों आइओसी, बीपीसीएस और एचपीसीएल की रेटिंग सॉवरेट में सुधार

मानुषी छिल्लर ने जीता मिस वर्ल्ड 2017 का खिताब

वाराणसी मे नरेश उत्तम ने कहा सपाजनों को डराकर तोड़ रही भाजपा