यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

आतंकी सक्रियता को लेकर मथुरा, अयोध्या और काशी के लिए खास सतर्कता | लखनऊ


Saturday, August 12 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

आतंकी सक्रियता को लेकर मथुरा, अयोध्या और काशी के लिए खास सतर्कता

मथुरा, काशी और अयोध्या आतंकियों के निशाने पर हैं। केंद्रीय एजेंसियों से इनपुट में स्वतंत्रता दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर भीड़ इनका सॉफ्ट टारगेट होने की संभावना है। इसे देखते तीनों धार्मिक स्थलों पर सुरक्षा का दायरा बढ़ाया गया है। यहां पीएसी की एक-एक दर्जन कंपनियों की अतिरिक्त तैनाती की जा रही है। स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट किया गया है। महत्वपूर्ण संस्थानों की सुरक्षा के लिए आरएएफ और अतिरिक्त बल की व्यवस्था है। अभिसूचना तंत्र को जिलों की खुफिया इकाइयों से समन्वय बनाकर सतर्कता बरतने और बांग्लादेशियों के शरण स्थलों की विशेष निगरानी को कहा गया है। एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर पर वारदात की धमकी का पत्र रामपुर के व्यक्ति द्वारा भेजा गया था, लेकिन उसका नाम-पता तस्दीक नहीं हो सका है। 

स्वतंत्रता दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर सुरक्षा-व्यवस्था की समीक्षा करने शुक्रवार को मथुरा आए एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि (केजेएस) का दौरा कर वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की। सूत्रों के मुताबिक बैठक में मथुरा, अयोध्या और काशी में आतंकी वारदात के मददेनजर चौकसी का मुददा छाया रहा। एडीजी ने मथुरा में सुरक्षा को लेकर मिली कमियों में तत्काल सुधार के निर्देश दिए। बाद में पत्रकारों को एडीजी कानून-व्यवस्था ने बताया कि जन्मभूमि की सुरक्षा के लिए लगे कैमरे अव्यवस्थित हैं, उन्हें व्यवस्थित कराया जा रहा है। इंटेलीजेंस से मिल रहे लगातार इनपुट पर सुरक्षा चौकस की जा रही है। प्रदेश में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। बुधवार रात अकालतख्त एक्सप्रेस में बम मिलने को लेकर उनका कहना था कि एटीएस समेत कई सुरक्षा एजेंसियां इसकी जांच कर रही हैं। 

डीजीपी सुलखान सिंह ने जिलों के अधिकारियों को पत्र भेजकर 15 अगस्त पर कड़े सुरक्षा प्रबंध करने के लिए कहा है। उन्होंने रेल, सड़क और हवाई आवागमन पर विशेष निगाह रखते हुए तीनों विवादित स्थलों के साथ ही ताजमहल व अन्य प्रमुख संस्थानों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने को कहा है। इस अवसर पर आयोजित होने वाले समारोहों से तीन या चार घंटे पहले एंटी सैबोटॉज चेकिंग की जाएगी। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, एयरपोर्ट, सिनेमाहाल, मल्टीप्लेक्स, भीड़भाड़ वाले स्थान और धार्मिक स्थलों की सुरक्षा के लिए पुलिस बलों को विशेष रूप से ब्रीफिंग के लिए भी कहा गया है। कहा कि माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, पैराग्लाइडर, हैंगग्लाइडर, ड्रोंस, एवं अन्य मानव रहित विमानों की उड़ानों पर सतर्क दृष्टि रखी जाए। इसके साथ ही गेस्टहाउस, होटल एवं धर्मशालाओं की आकस्मिक चेकिंग की जाए। नए किरायेदारों का भी सत्यापन कराया जाए। साथ ही केमिकल्स की दुकानों जहां अमोनियम नाइट्रेट जैसे रसायन पदार्थ आसानी से प्राप्त हो सकते हों, का सत्यापन और चेकिंग भी की जाए। डीजीपी ने स्वैच्छिक संगठनों एवं अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तियों का सहयोग लेने का भी अधिकारियों को निर्देश दिया है।