यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

महानगरों में सपा का काम मील का पत्थर : अखिलेश यादव | लखनऊ


Tuesday, November 14 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

महानगरों में सपा का काम मील का पत्थर : अखिलेश यादव

पहली बार अपने सिंबल पर चुनाव लड़ रही समाजवादी पार्टी ने नगरीय निकाय चुनावों को लेकर संकल्प पत्र तो नहीं जारी किया, हालांकि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मतदाताओं से अपील जारी कर भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि महानगरों में सपा सरकार के काम मील का पत्थर हैैं और जनता इसके आधार पर अपने मतों का फैसला करेगी। भाजपा ने अब तक कोई ऐसा काम नहीं किया, जिससे लोग प्रभावित हों।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने कहा कि प्रदेश के निकाय चुनाव 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए संकेत होंगे इसलिए मतदाताओं को तय करना है कि वे सपा सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को आगे बढ़ाना चाहेंगे अथवा भाजपा की विकास विरोधी नीतियों को फलने-फूलने देंगे। सपा ने अपने वादे पूरा करते हुए शहरों के विकास को गति दी, जबकि भाजपा ने अपने अब तक के कार्यकाल में न तो एक भी चुनावी वादा पूरा किया है और न ही जनहित की कोई योजना चालू की। वह सिर्फ नफरत फैलाने और समाज को बांटने का काम ही करती रही है। 

375 एकड़ के जनेश्वर मिश्र पार्क, जय प्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय केंद्र एवं गोमती किनारे रिवरफ्रंट, लखनऊ आगरा एक्सप्रेस-वे, मेट्रो रेल सेवा जैसे कई कामों को गिनाते हुए अखिलेश ने कहा कि समाजवादी सरकार ने कभी किसी राजनीतिक द्वेष व दुर्भावना से काम नहीं किया और हर क्षेत्र में विकास कार्यों की ओर ध्यान दिया। दूसरी ओर भाजपा सरकार हर मसले पर फेल रही। गोरखपुर में सैकड़ों बच्चे दवा और ऑक्सीजन की कमी से जान गवां बैठे। अपराधी बेखौफ हैं। हत्या, लूट, अपहरण की घटनाएं बढ़ी है। महिलाएं असुरक्षित हैं। 

अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार ने राजनीतिक प्रतिशोध के तहत समाजवादी पार्टी की सरकार के समय की अनेक बड़ी-बड़ी विकास योजनाओं को बंद कर दिया है। 55 लाख गरीब महिलाओं को 500 रुपये प्रतिमाह मिलने वाली पेंशन योजना बन्द कर दी गई है। गरीबों को लोहिया आवास के लिए 3.05 लाख रुपये दी जाने वाली योजना बंद कर दी गई है। किसानों की कर्ज माफी के नाम पर धोखा किया गया। प्रदेश में पिछले आठ माह में एक भी नया निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो सका। गड्ढा मुक्त अभियान में करोड़ों रुपये की बंदरबांट की गई। 

 

नवीन समाचार व लेख

लोकपाल के लिए फिर अन्ना हजारे 25 फरवरी से दिल्ली में आंदोलन करेंगे।

महानगरों में सपा का काम मील का पत्थर : अखिलेश यादव

निकाय चुनाव शांतिपूर्ण कराने के लिये बनी रणनीति, 40 कंपनी अर्द्धसैनिक बल

नगरीय निकाय चुनाव के तूफानी दौरे में मुख्यमंत्री योगी के अभियान में कुछ संशोधन

वाराणसी व आगरा में पर्यटन को गंगा-यमुना में उतरेंगे आठ सीटों वाले उडऩखटोले