यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

लखनऊ गोमती नगर की कठौता झील से हटाया अतिक्रमण हाइकोर्ट के आदेश पर | लखनऊ


Wednesday, November 15 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

लखनऊ गोमती नगर की कठौता झील से हटाया अतिक्रमण हाइकोर्ट के आदेश पर

लखनऊ : कठौता झील किनारे अवैध रुप से बनी झुग्गी बस्ती मंगलवार को एलडीए के दस्ते ने जिला प्रशासन और पुलिस के साथ हटा दी। पिछले दिनों इस संबंध में उच्च न्यायालय की ओर सेआदेश दिया गया था। एलडीए के दस्ते के साथ काफी संख्या में पुलिस बल शामिल रहा।

इस अभियान में एसीएम चतुर्थ गुंजा सिंह मौजूद रहीं। इस दौरान अवैध बस्ती में रह रहीं कुछ महिलाओं की एसीएम चतुर्थ के साथ बहस हुई, लेकिन पुलिस बल आगे उनकी एक न चली। एसीएम चतुर्थ ने जब जमीन के कागज व आदेश की कॉपी मागी तो किसी के पास कोई जवाब नहीं था। कठौता झील के किनारे एलडीए की काफी जमीन है। इस पर कई वषरें से लोग अवैध रुप से कब्जा करके रह रहे हैं। एलडीए ने कई बार इसे खाली कराने का प्रयास किया, लेकिन प्रशासन का सहयोग न मिल पाने के कारण एलडीए इसे खाली नहीं करा पाया। इस पर करीब एक सप्ताह पहले अधिवक्ता चंद्रभान सिंह ने उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की थी। जिसमें उन्होंने कहा कि कठौता झील से गोमती नगर व इंदिरा नगर को पीने के लिए पानी सप्लाई होता है। झील के किनारे अवैध रुप से रह रहे लोग उसमें गंदगी फैलाते हैं। इसके साथ ही झील में सुरक्षा के लगी लोहे की जालिया काटकर उसमें मछली पकड़ते हैं। रात में कई अवैध कार्य होते हैं। अधिवक्ता एचएस तिवारी व बजरंग बहादुर सिंह ने बताया कि इसी का संज्ञान लेते हुए छह नवंबर को हाईकोर्ट ने एलडीए अफसरों को तलब कर आदेश दिया था कि दस दिन के अंदर कठौता झील के किनारे से अतिक्रमण हटाया जाए।

 

नवीन समाचार व लेख

लखनऊ गोमती नगर की कठौता झील से हटाया अतिक्रमण हाइकोर्ट के आदेश पर

सीतापुर में सब्जी खरीदने गई युवती को बंधक बनाकर किया सामूहिक दुष्कर्म

फिरोजाबाद में अखिलेश यादव ने कहा जनता के गुस्से से डरी सरकार, इसलिए बदल रही है जीएसटी दरें

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा-बसपा ने अयोध्या पर जरा भी ध्यान नहीं दिया

गोंडा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा नगरीय क्षेत्रों में भी होगा स्वच्छता व सौंदर्यीकरण का काम