दल के टुकड़े-टुकड़े करके दल बदल कर चल दिये | समाचार

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

दल के टुकड़े-टुकड़े करके दल बदल कर चल दिये | समाचार


Monday, January 23 2017
अमित कुमार, सहसंपादक बुंदेलखंड

दल के टुकड़े-टुकड़े करके दल बदल कर चल दिये

अमित शुक्ला: बुंदेलखण्ड सम्पादक

             दल के टुकड़े-टुकड़े करके दल बदल कर चल दिये, दल बदल कर इन्हें न ¨चता ये जिये कुर्सी के लिए, मां सरस्वती की वंदना के साथ और इस काव्य रचना के साथ लखनलाल चौरसिया ने गोष्ठी का शुभारंभ किया। अनेक कवियों ने अपनी रचनाओं से वर्तमान राजनीतिक चेहरा पेश किया। इस दौरान तारा के आंदोलन का भी पूरा साथ देने का वादा किया।

            शहर के आल्हा चौक में चल रहे बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकार के उपवास स्थल पर रविवार को काव्य गोष्ठी का आयोजन हुआ। तारा एम्स समेत 13 सूत्रीय मांगों को लेकर 168 दिन से उपवास व अन्य त्याग कर बैठे हुए हैं। काव्य गोष्ठी में सरस्वती की वंदना प्रमोद सक्सेना ने की। संतोष धुरिया ने मोदी जी की रैली में भीड़ देखी अपार लेकिन एम्स के सपने को नहीं कर गये साकार, कविता सुनाई। जगप्रसाद ने कविता सुनाई, हमें तुमसे जौ बात है बतावने, एम्स महोबा में है चाहवने, काव्य गोष्ठी का संचालन करते हुए सुशील शर्मा ने एम्स के समर्थन में कविता सुनाई। आलाहा चौक परिषद के अध्यक्ष दाऊ तिवारी ने भी काव्य पाठ किया। गोष्ठी की अध्यक्षता रामप्रकाश पुरवार ने किया। गोष्ठी में शिवकुमार गोस्वामी, एमपी ¨सह, ओमप्रकाश तिवारी, भगीरथ शर्मा, जलील, लालजी त्रिपाठी, करन ¨सह आदि लोग रहे।