यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

3 घंटे अस्पताल में गूंजती रहीं गैस रिसाव पीड़ितों की मासूम चीखें | समाचार


Wednesday, October 11 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

3 घंटे  अस्पताल में गूंजती रहीं गैस रिसाव पीड़ितों की मासूम चीखें

शामली । गैस रिसाव से बच्चों की जान पर बनी थी। इससे अस्पताल प्रशासन की भी सांस अटकी थी। जिला अस्पताल में तीन घंटे तक चीखपुकार मचती रही और अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। अपने बच्चों की तलाश में अभिभावक इधर से उधर भटकते रहे। घंटों तक एंबुलेंस व प्राइवेट वाहनों से स्कूल के बच्चों को अस्पताल से लाने-ले जाने का सिलसिला चलता रहा।

 मंगलवार सुबह करीब 9 बजे जिला अस्पताल को स्कूली बच्चों की हालत बिगडऩे की सूचना मिलते ही हड़कंप मच गया। आनन-फानन में अस्पताल की एंबुलेंस स्कूल भेजी गई। बड़ी संख्या में बच्चों की हालत बिगडऩे पर एंबुलेंस कम पड़ गई। इसके बाद अस्पताल की गाडिय़ों के साथ ही प्राइवेट गाडिय़ों को लगाया गया। देखते ही देखते गाडिय़ों से बच्चों को बड़ी संख्या में लाया जाने लगा। अस्पताल में चीखपुकार मच गई और अफरा तफरी का माहौल बन गया। बच्चों का आनन-फानन में उपचार शुरू किया गया। गंभीर हालत में बच्चों को हाथों-हाथ प्राइवेट अस्पताल में भेजना शुरू कर दिया गया। अस्पताल में बच्चों को प्राथमिक उपचार के लिए वार्डों में बेड कम पड़ गए। बच्चों को अस्पताल परिसर में दरी पर बैठाकर उपचार किया गया। उधर, अभिभावक बड़ी संख्या में अस्पताल की तरफ दौड़ पड़े। लगभग तीन घंटे से अधिक समय तक अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। कुछ अभिभावकों से बात करने का प्रयास किया गया तो उनका बस इतना कहना था कि उनकी बस भगवान से यही प्रार्थना है कि उनके बच्चों के साथ कोई अनहोनी न हो।