यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)
UFH News Wheel

पुराने पीएफ खाते में जमा राशि को नए खाते में ट्रांसफर हुआ आसान | विशेष


Tuesday, November 14 2017
Vikram Singh Yadav, Chief Editor ALL INDIA

पुराने पीएफ खाते में जमा राशि को नए खाते में ट्रांसफर हुआ आसान

अब ईपीएफ (एम्प्लॉय प्राविडेंट फंड) का पैसा निकालना आसान हो गया है। रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ ने फॉर्म 11 नाम से एक खास फॉर्म जारी किया है। अब नए कर्मचारियों के पीएफ खाते में जमा पैसा खुद ब खुद ट्रांसफर हो जाया करेगा। अब कर्मचारियों को नौकरी बदलने के बाद ईपीएफ ट्रांसफर क्लेम वाला फॉर्म 13 नहीं भरना होगा। ईपीएफओ की ओर से 20 सितंबर 2017 को जारी किए गए एक सर्कुलर के जरिए यह जानकारी सामने आई है। वर्तमान समय में सभी कर्मचारियों को नौकरी बदलने के दौरान पीएफ अकाउंट ट्रांसफर के लिए फॉर्म 13 भरना होता है।

फॉर्म-11 के जरिए ऑटो ट्रांसफर फैसिलिटी कैसे करेगी काम?

  • फॉर्म 11 में न्यू ज्वाइनिंग (नई भर्तियों) को अपनी पर्सनल डिटेल के साथ साथ पुरानी कंपनी का पीएफ और यूएएन नंबर लिखना होगा।

  • यूएएन कर्मचारियों को जारी किया जाने वाला एक यूनीक नंबर होता है, जो कि विभिन्न प्रतिष्ठानों की ओर से कर्मचारियों को दिए जाने वाले अलग-अलग पीएफ खातों के लिए एक छाते (एक जगह एकत्र करने वाले मंच) की तरह काम करता है जिसमें खाताधारक की काफी सारी आईडी संलग्न होती हैं। यूएएन नंबर ईपीएफओ की ओर से जारी किया जाता है।
  • इसके बाद कर्मचारी को नियोक्ता पोर्टल में उन सभी जानकारियों को भरना होगा जो कि फॉर्म 11 में दी गई हैं।
  • इसके बाद इस डेटा का यूएएन के संबंध में उपलब्ध जानकारियों से मिलान करवाया जाएगा।
  • अगर किसी सूरत में आपका यूएएन आधार से लिंक और वैरिफाइड है तो इसके बाद कर्मचारी की ओर से फॉर्म 11 के जरिए नियोक्ता के नाम पर दिए गए घोषणापत्र को देखते हुए ऑटो ट्रांसफर प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इसके जरिए कर्मचारी के पुराने प्रोविडंट फंड में जमा राशि को नए प्रोविडंट फंड अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। ऐसे मामलों में अब फॉर्म 13 भरने की अनिवार्यता नहीं रह जाएगी।
  • एक बार इतनी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद सब्सक्राइबर्स के रजिस्टर्ड मोबाइल फोन में मैसेज के जरिए इसकी जानकारी दी जाएगी।
  • वहीं अगर सब्सक्राइबर्स मोबाइल में ऐसा मैसेज आने के 10 दिन के भीतर इस प्रक्रिया को रोकने का आग्रह करता है तो इस प्रक्रिया (ऑटो ट्रांसफर फैसलिटी) को रोक दिया जाएगा, नहीं तो यह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
  • एक बार नए पीएफ खाते में पैसा ट्रांसफर हो जाने के बाद सब्सक्राइबर्स के मोबाइल नंबर पर मैसेज आ जाएगा। यह मैसेज उसी मोबाइल नंबर पर आएगा जो कि यूएएन के साथ लिंक होगा नहीं तो यह जानकारी आपको ई-मेल के जरिए दी जाएगी।

 ESI और EPF सलाहकार आशीष शर्मा ने बताया कि जब पहले कोई कर्मचारी नौकरी बदलकर दूसरे ऑफिस में नौकरी करने के लिए जाता था या नौकरी बदलता तो उससे फॉर्म 13 भरवाया जाता था। लेकिन अब इस सिस्टम को खत्म करने के लिए ईपीएफओ (कर्मचारी भविष्य निधि संगठन) फॉर्म 11 लेकर आई है। जब आपका नया नियोक्ता आपसे फॉर्म 11 भरवाएगा और उस डेटा को अपने पीएफ पोर्टल पर एंटर करवाएगा तो कर्मचारी के पुराने पीएफ खाते का पैसा नए खाते में ऑटोमेटिक ट्रांसफर हो जाएगा। इसमें आपका यूएएन नंबर तो वही रहेगा लेकिन आपका पीएफ अकाउंट नंबर बदल जाएगा।